यूपी: गेहूं बेचने वाले किसान ध्यान दें! इस मशीन हो रही रही है सरकारी खरीद, ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन

0
गेहूं खरीद

अलख भारत। पंजाब , हरियाणा , यूपी सहित देश के कई राज्यों में गेहूं की सरकारी खरीद होना शुरू हो चुका है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government of Uttar Pradesh) गेहूं खरीद में पारदर्शिता लाने के लिए तकनीकी मशीनों का इस्तेमाल कर रही है। योगी सरकार इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ परचेज (ई-पॉप) डिवाइस (Electronic point of purchase (e-pop) device) के माध्यम से गेंहूं की खरीद कर रही है। इस तकनीक से गेहूं की खरीद करने वाला उत्तर प्रदेश, देश का पहला है। यूपी के अलावा अन्य राज्यों ने इस तकनीक का प्रयोग अभी नहीं किया है। इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ परचेज (ई-पॉप) डिवाइस से गेहूं खरीद में पारदर्शिता आएगी और धांधली और गड़बड़ी के चांस नहीं रहेगा। इस डिवाइस से किसान की फसल के दाम सीधे उनके खाते में बिना रुकावट के पहुंच जाएंगे।

यूपी की योगी सरकार का दावा है कि ई-पॉप मशीन से किसानों को गेहूं की मात्रा की तुलाई , उसका मूल्य की प्रिंटेड रसीद हाथों -हाथ मिल सकेगी। कोरोना महामारी के चलते भीड़ न हो इसके लिए खरीद केंद्रों पर योगी सरकार ने पहले ही ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की हुई है। किसानों के खेत के 10 किलमिटर के दायरे में ख़रीद केंद्र उपलब्ध करवा रही है , ताकि किसान को गेहूं बेचने दूर न जाना पड़े।

गौरतलब है इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ परचेज ऐसा डिवाइस है जिसपर अंगूठा लगाकर (Thumbing)कोटे से राशन दिया जाता है। इस डिवाइस का इस्तेमाल अब गेहूं की खरीद में किया जा रहा है। इसके माध्यम से पहली खरीद बीते 7 अप्रैल को मुरादाबाद जिले (Moradabad District)में विपणन शाखा क्रय केन्द्र कुन्दरकी (Marketing Branch Purchasing Center Kundarki) पर हुई. इसके बाद बरेली, रामपुर, बुलंदशहर, मुरादाबाद, आगरा आदि जिलों इसके जरिये खरीद शुरू की गई थी।

योगी सरकार ने रबी विपणन वर्ष 2021-22 (Rabi Marketing Year 2021-22) की फसल की खरीद के लिए पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। अगर किसी किसान को गेहूं बेचना है तो उसे जन सुविधा केंद्र (Public Welfare center) या साइबर कैफे (cyber cafe) से खाद्य सुरक्षा के पोर्टल www . fcs.in पर ऑनलाइन रजिस्ट्रशन कराना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here