क्या हमारे पालतू जानवर COVID-19 फैला सकते हैं ?

0

( कल्पिता सिंह/ऋषिकेश कृष्ण लक्ष्मी/रियाज़) चारो तरफ फ़ैल रहे घातक कोरोनावायरस के प्रकोप के बीच, कई सवाल हैं जो हमारे दिमाग में आते हैं। ऐसा ही एक सवाल जो लगभग हर पालतू जानवर के मालिक या पशुपालक के मन को चिंता में डाल रहा है कि “क्या उनके पालतू जानवर भी कोरोनोवायरस के वाहक है? क्या पालतू जानवरो से भी COVID-19 का संक्रमण हो सकता है”? कई मामलों की रिपोर्ट हैं कि मालिकों ने अपने पालतू जानवरों को इस डर से विस्थापित कर दिया है कि कहीं उनके पालतू कुत्ते या बिल्ली उन्हें संक्रमित न कर दें। लेकिन रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) के अनुसार, “इस समय, अमेरिका में कोई भी ऐसा वैज्ञानिक तर्क नहीं है कि पालतू जानवर (बिल्ली और कुत्ते) या साथ रह रहे जानवर संक्रमण का स्रोत हो सकते हैं या COVID -19 फैला सकते हैं।

फरवरी 2020 के अंत में, हांगकांग में COVID-19 के लिए दो कुत्तों को “कमजोर सकारात्मक” के रूप में पहचाना गया। उसके बाद ही यह डर मुख्य धाराओं के रूप में मीडिया में फैल गया। कुत्ते के मालिक का COVID-19 के लिए परीक्षण किया गया था जोकि सकारात्मक पाया गया और इसके बाद, कुत्ते का भी परीक्षण किया गया जोकि सकारात्मक पाया गया। ध्यान देने वाली बात यह है कि हालांकि सकारात्मक होने के कारण, यहां कुत्ते में रोग के कोई लक्षण दिखाई नहीं दिए। कुत्ते को पशु संगरोध सुविधा (animal quarantine facility) में रखने के बाद COVID-19 के लिए नकारात्मक परिणाम दिखाए दिए। इसलिए इस विचार का समर्थन करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं कि पालतू जानवर बीमारी फैला सकते हैं।

इसके अलावा, इस बात का भी पूरी तरह से पता नहीं है कि वायरस अपने संक्रामक चरण (active stage) में था या उसमे विभाजन भी हो रहा था या नहीं। कुत्ते का COVID-19 के लिए सकारात्मक होना केवल कोरोना वायरस की उपस्थिति को दर्शाता है जिसके काफी सारे अनुमान लगाए जा सकते है जैसे जानवर ने घर में किसी भी संक्रमित जगह को चाटा होगा या सीधे मालिक के संपर्क में आया होगा, जो पहले से ही पीड़ित था। हांगकांग के अधिकारियों एवं अन्य विश्व स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी कहा है कि ऐसा कोई मामला और सबूत अब तक नहीं है जिसमे कोरोनावायरस का संक्रमण पालतू जानवर से उसके मालिक में पाया जाये। यह मानव से पशु तक संचरण का पहला मामला था तथा इसमें कुत्ते के बीमार होने के कोई लक्षण नहीं मिले। इसके अलावा, ओआईई-वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन फॉर एनिमल हेल्थ (OIE-WOAH) के अनुसार, कोई भी ऐसा प्रमाण नहीं है कि पालतू जानवर COVID-19 का संचरण करते हो।

जैसा कि हम जानते हैं कि वायरस संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने, संक्रमित सतह को छूने के बाद, जब हम अपनी आंखों, नाक या मुंह को छूते हैं, तो वायरस हमारे शरीर में प्रवेश कर जाता है और हम इस तरह से बीमारी से ग्रस्त हो जाते हैं। लोग आज सामाजिक दूरी का अभ्यास उचित रूप से कर रहे हैं जिससे पालतू जानवरों को रोग ग्रस्त होने की संभावनाएं दुर्लभ है। इसके साथ-साथ हमारे आस-पास उचित स्वच्छता बनाए रखना भी इस संभावना को कम करता है। उचित सफाई बनाए रखने के साथ साथ हमे कुछ अलग निवारक उपायों का भी अनुसरण करना चाइये जैसे पालतू जानवर के साथ न खेलना, न चुंबन करना तथा अपने पालतू जानवर को बाहरी व्यक्ति  से अलग रखना। इन उपायों के अलावा, लगातार साबुन से हाथ धोना, विभिन्न श्वसन रोगों जैसे पैराइन्फ्लुएंजा के लिए पालतू जानवरो का टीकाकरण करवाना COVID-19 के संचरण को रोकने में मददगार साबित होगा।

दुनिया भर के वैज्ञानिक इस वायरस के खिलाफ टीका विकसित करने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं, और अब तक, केवल मनुष्यों के लिए ही नहीं, बल्कि जानवरों के लिए भी कोई टीका उपलब्ध नहीं है। हम वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन कर सकते हैं। इस संकट की घडी में हम सभी को एक दूसरे की देखभाल की आवश्यकता है और विशेष रूप से इन निर्दोष आत्माओं की, जो अपनी दैनिक रोटी के लिए भी हम पर निर्भर हैं।

हैं।

-कल्पिता सिंह,बायोटेक्नोलॉजी विभाग

गौतम बुद्धा यूनिवर्सिटी, ग्रेटर नॉएडा

रियाज़,पोस्टडॉक शोधकर्ता

ऋषिकेश कृष्ण लक्ष्मी,अनुसंधान विद्वान
प्राणी विज्ञानं विभाग, दिल्ली विश्वविधालय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here